नई दिल्ली: सानिया मिर्जा और रोहन बोपन्ना की अनुभवी भारतीय जोड़ी ने रियो ओलिंपिक में ग्रेट ब्रिटेन के एंडी मरे और हेदर वॉटसन की जोड़ी को लगातार सेटों में 6-4, 6-4 से हराकर मिश्रित युगल टेनिस स्पर्धा के सैमीफाइनल में प्रवेश कर लिया है। इस जीत के साथ ही भारत को पदक जीतने के दो मौके मिल गए हैं।

 
अगर भारत अपना अगला मुकाबला जीत जाता है तो वह फाइनल में प्रवेश कर जाएगा और कम से कम रजत पदक मिलेगा। अगर हारता है तो फिर भी उसे कांस्य पदक के लिए मुकाबला करना होगा। गुरूवार देर रात हुए टेनिस के क्वार्टरफाइनल मुकाबले में चौथी वरीयता प्राप्त भारतीय जोड़ी ने ब्रिटेन की जोड़ी को केवल 67 मिनटों में हरा दिया। वाटसन को पहले सेट में सर्व करने और ग्राउंड स्ट्रोक लगाने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा।
 
 
भारतीय जोड़ी ने ब्रिटिश जोड़ी की अपेक्षा बेहतर खेल का प्रदर्शन किया। ब्रिटेन की जोड़ी भारतीय जोड़ी के सामने कभी भी खतरा उत्पन्न करती नहीं मालूम हुयी। बोपन्न ने जहां बेहतरीन सर्व किए जबकि सानिया ने कोर्ट के पीछे से बखूबी उनका साथ दिया।
हालांकि बोपन्ना ने डबल फाल्ट के साथ शुरूआत जबकि सानिया ने भी लगातार वॉली की गलती की। लेकिन इस चिंता से उबरने में भारतीय जोड़ी ने अधिक समय नहीं लगाया।
 
भारतीय जोड़ी ने बेहतर खेल का प्रदर्शन करते हुए वॉटसन के सर्व को अपने नाम कर लिया। बोपन्ना ने जबरदस्त बैकहैंड लगाते हुए पहला ब्रेक प्वाइंट अपने नाम कर लिया। अगली बार सानिया ने ब्रेक प्वायंट बचाते हुए सेट को 2-2 की बराबरी पर ला दिया। इसके बाद सानिया ने कुछ मजबूत फोरहैंड रिटर्न लगाए और प्रतिद्वन्द्वी जोड़ी को लाचार करते हुए भारत को 4-3 की बढ़त दिला दी। फिर सानिया ने बेहतर सर्व करते हुए बढ़त को बढ़ाकर 5-3 कर दिया। आखिरी में खेल में वापसी करने का प्रयास कर रही ब्रिटेन की जोड़ी को दूसरे सेट में 6-4 के अंतर से हराकर भारतीय जोड़ी ने सेमीफाइनल में जगह बना ली।