कांकेर की एक अदालत ने प्रेम-प्रसंग में जन्मे बच्चे की गला दबाकर हत्या करने वाले प्रेमी जोड़े को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. कच्चे पुलिस चौकी क्षेत्र के कलंकपुरी गांव के रहने वाले जगदीश शोरी और ग्राम नेड़गांव निवासी नरसोबाई उसेंडी का प्यार परवान चढ़ा. इसी दौरान नरसोबाई गर्भवति हो गई, उसने एक बच्चे को जन्म दिया.

समाज के ठेकेदारों ने प्रेम-प्रसंग के चलते जन्मी संतान को लेकर गांव में बैठक की. जिसमें उनकी शादी पर बात नहीं बनी और दोनों को अलग कर दिया गया. 9 जनवरी 2015 की रात जगदीश सोनी नरसोबाई के घर से बच्चे को लेकर कोपेन पहाड़ी गया जहां दोनों ने मिलकर मासूम बच्चे की गला दबाकर हत्या कर दी.

19 जनवरी को बच्चे की लाश मिलने पर पुलिस ने जांच पड़ताल की. जिसपर जगदीश और नरसोबाई का बच्चा होने की बात पता चली. पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने हत्या की बात कबूल की. पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया. जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश मनोज कुमार प्रजापति की अदालत ने दोनों प्रेमी-प्रेमिका को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. साथ ही सात-सात सौ रूपए के अर्थदंड से दंडित किया है.