शहर में नई खुलने वाली राशन दुकानों के स्वरूप में बदलाव के बाद अब सिर्फ 22 दुकानों के खोलने की तैयारी चल रही है। पहले 500 उपभोक्ताओं पर एक राशन दुकान की बात कही गई थी। लेकिन अब एक हजार उपभोक्ताओं पर एक राशन दुकान खोलने की तैयारी है। शहर में नए राशन दुकान खुलने की प्रक्रिया लंबी होती जा रही है। वर्तमान में शहर में 128 दुकानें हैं। इसके अलावा पूर्व में 5 सौ उपभोक्ताओं पर अतिरिक्त 87 दुकानें खोलने की तैयारी पूरी हो चुकी थी इस बीच प्रशासन के सात दिन के लॉकडाउन की वजह से मामला अटक गया राशन दुकानें खोलने के लिए कोआपरेटिव सोसायटी का होना अनिवार्य है। राज्य में कांग्रेस की सरकार के आने के बाद यह पहला मौका है कि नई राशन दुकानें खोली जा रही हैं।