कोरोना सघन सामुदायिक सर्वे अभियान का अंतिम दिन सोमवार रहा। आठ दिन तक चले सर्वे के अंतिम दिन 35076 घरों में स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची। स्वास्थ्य की जानकारी लेने पर 179 लोगों में सर्दी, खांसी, बुखार सहित कोविड के लक्षण मिले। 78 हाई-रिस्क वाले लोगों की भी पहचान हुई। एंटीजन और आरटी-पीसीआर जांच करने के बाद 47 रोगियों की पहचान हुई। सोमवार को सबसे ज्यादा शहर के 18230 घरों का सर्वे किया गया। 148 में लक्षण मिले तो 71 हाई-रिस्क वाले थे। 67 लोगों की जांच करने पर 16 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। सबसे कम तखतपुर में 826 घरों का सर्वे किया गया। जहां एक भी लक्षण वाले व्यक्तियों की पहचान नहीं हो पाई। बिल्हा में 1305, कोटा में 1034, मस्तूरी में 1936 घरों का सर्वे किया गया। बता दें कि जिले में पांच अक्टूबर से सर्वे की शुरुआत हुई थी। आठ दिन में स्वास्थ्य विभाग की 2647 टीमों ने तीन लाख 91 हजार 392 घरों का सर्वे किया। 2589 लाेगों में सर्दी, खांसी, जुकाम, बुखार सहित कोविड-19 के लक्षण मिले। 394 हाई-रिस्क के लोग भी थे। 1998 एंटीजन और 869 आरटी-पीसीआर को मिलाकर कुल 2867 लोगों की कोरोना जांच की गई। 234 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इनमें 206 एंटीजन तो 28 आरटी-पीसीआर से संक्रमित हुए हैं। सबसे ज्यादा शहर में एक लाख 25 हजार 869 घरों का सर्वे किया गया।