हैदरगढ़ बाराबंकी । एक तरफ जहाँ देश वैश्विक महामारी से जूझ रहा है। तो वहीं जमाखोर कालाबाजारी पर आमादा है। लॉकडाउन का फायदा उठाकर दुकानदार निर्धारित रेट से अधिक की आवश्यक समाग्रियां बेच रहे है। जिससे गरीबों की जेबे ढीली हो रही है। उन्हें महंगे दामों पर रोजमर्रा की समान उपलब्ध हो रही है। गुरुवार को कस्बा हैदरगढ़ की अधिकतर किराना की दुकानों में दिन भर ताला ही लटका रहा। लेकिन धड़ल्ले से कालाबाजारी जारी है। कालाबाजारी रोकने के लिए खाद्य व रसद विभाग के जिम्मेदार अधिकारी उदासीन बने हुए है। लॉकडाउन के दौरान किसी को आवश्यक समाग्रियों की कमी ना हो इसके लिए सरकार द्वारा फुटकर किराना की दुकानों को शासन की अनुमति पर खोलने का निर्देश दिया है। इसके लिए बकायदा नगर पंचायत हैदरगढ़ द्वारा 32 किराना दुकानदारों को खोलने के लिए शोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए डोर स्टेप डिलवरी करने के साथ होम डिलवरी के निर्देश दिए है। इसके अलावा सब्जी की 28 व दूध की 9 दुकानों इस सूची में शामिल है। इसके लिए किराना की दुकानों का खुलने का समय प्रातः 11 बजे से शायं 5 बजे है फल व सब्जी की दुकानों का खुलने का समय प्रातः 6 बजे से 9 बजे व शामं 6 बजे से रात्रि 9 बजे है। लेकिन गुरुवार को कस्बा की अधिकतर किराना की दुकाने नहीं खुली दुकानों पर दिनभर ताला लटकता हुआ देखा गया। लॉकडाउन के चलते किराना व सब्जी के दुकानदार मनमानी पर उतारू है। निर्धारित दरों से दुगना रेट पर दुकानदार समान बेच रहे है। ऐसे में रोजमर्रा जैसी की समानों के लिए लोगों की मुश्किलें बढ़ गई है। स्टाक आदि का बहाना बताकर किराना दुकानदार अपनी-अपनी दुकानें खोलने से मना कर रहे है। सरकार द्वारा कालाबाजारी रोकने लिए हेल्पलाइन नम्बर जारी कर तमाम प्रयास किए जा रहे है लेकिन यहाँ पर दुकानदार अपनी मनमानी पर उतरे हुए है। अधिक मुनाफा कमाने के चक्कर में कालाबाजारी कर रहे है।