नई दिल्ली, देश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच पीएम मोदी ने शुक्रवार को प्रमुख अधिकारियों संग बैठक की. पीएम मोदी ने इस बैठक में देश मेें कोरोना वैक्सीन को लेकर तैयार की जा रही रणनीति के बारे में चर्चा की. पीएम मोदी ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी.
पीएम मोदी ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि भारत की वैक्सीन रणनीति और आगे की तैयारियों की समीक्षा करने के लिए एक बैठक आयोजित की गई. बैठक में वैक्सीन तैयार होने संबंधी जानकारी, वैक्सीन के अप्रूवल और खरीद से संबंधित महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की गई.
एक अन्य ट्वीट में पीएम मोदी ने बताया कि इस बैठक में कोरोना वैक्सीन दिए जाने की प्राथमिकता पर भी चर्चा की गई. ट्विटर पर दी गई जानकारी के मुताबिक इस बैठक में वैक्सीन उपलब्ध होने और अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर इसे जोड़ने को लेकर भी चर्चा की गई.
बैठक में पीएम मोदी के प्रधान सचिव, कैबिनेट सचिव, सदस्य (स्वास्थ्य) नीति आयोग, प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार, स्वास्थ्य सचिव, आईसीएमआर के महानिदेशक, पीएमओ के अधिकारी और भारत सरकार के संबंधित विभागों के सचिव उपस्थित थे.
पीएम मोदी ने कहा कि  कोविड-19 वैक्सीन की प्राथमिकता के लिए कोरोना से जंग लड़ रहे स्वास्थ्यकर्मियों और अन्य लोगों की पहचान की जा रही है जिन्हें कोरोना की वैक्सीन पहले दी जाएगी. उन्होंने बताया कि बैठक में कोविड-19 वैक्सीन  वितरण की प्रक्रिया और वितरण को लेकर प्रशासन की तैयारियों की समीक्षा की गई.
बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने वैक्सीन बनाने में जुटे इनोवेटर्स, वैज्ञानिकों, शिक्षाविदों और फार्मा-कंपनियों के प्रयासों की सराहना की. इस दौरान उन्होंने निर्देश दिया कि वैक्सीन के रिसर्च, विकास और विनिर्माण की सुविधा के लिए हर संभव मदद मुहैया कराई जाएगी. सरकार ने कोविड-19 वैक्सीन रिसर्च और डेवेलपमेंट के लिए कोविड सुरक्षा मिशन के तहत 900 करोड़ रुपये की सहायता प्रदान की है.
पीएम मोदी ने बैठक में वैक्सीन के आपात इस्तेमाल, वैक्सीन के निर्माण और संचालन के पहलूओं पर भी चर्चा की. उन्होंने कहा कि हमारे देश और दूसरे अन्य देशों में कई वैक्सीन तीसरे चरण के ट्रायल में हैं. ऐसे में इन वैक्सीन के सफल होने पर देश के लोगों को जल्द से जल्द कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल संबंधी प्रक्रियाओं को निपटाने के लिए तैयारियों पर भी बातचीत हुई.