प्रदेश में लॉकडाउन के दौरान कोई व्यक्ति भूखा न रहे इसके लिए राज्य सरकार ने व्यापक प्रबंध किए हैं। सभी जिलों में भिखारियों, निराश्रित और जरूरतमंद व्यक्तियों का चिन्हांकन कर उन्हें गर्म भोजन तथा सूखा राशन प्रदान किया जा रहा है। समाज कल्याण विभाग द्वारा 14 हजार 608 निराश्रित, भिक्षुक, तृतीय लिंग समुदाय और जरूरतमंद व्यक्तियों का चिन्हान्कन किया गया है। मानव सेवा के इस काम में विभाग के साथ जिला प्रशासन, पुलिस साहित विभिन्न समाजसेवी संस्थाएं भी लगी हुई है। जरूरतमंदों तक भोजन पहुंचाने की राज्य स्तर पर निरन्तर ऑनलाईन मॉनिटरिंग की जा रही है।
      भोजन के सुरक्षित वितरण के लिए विस्तृत दिशा निर्देश जारी किये गये हैं। संस्थाओं को जिला प्रशासन एवं विश्व स्वास्थ्य संगठन के द्वारा समय-समय पर जारी निर्देशों का पालन सुनिश्चित करने कहा गया है। रायपुर संभाग में 4 हजार 813, दुर्ग संभाग में 5 हजार 913, बिलासपुर संभाग में एक हजार 532, बस्तर संभाग में 6 सौ और सरगुजा संभाग में एक हजार 750 जरूरतमंद व्यक्तियों का चिन्हांकन कर भोजन प्रदान किया जा रहा है। इन व्यक्तियों को रेल्वे स्टेशन, बस स्टेंट, नगर पालिक निगम,
चौक-चैराहों, रैन बसेरा, सामुदायिक भवन, मंदिर क्षेत्र, सब्जी बाजार, जनपद पंचायत जैसे स्थानों से चिन्हांकित कर भोजन दिया जा रहा है। जहां अधिक संख्या में बेसहारा और निराश्रित लोगों के मिलने की संभावना रहती है। इसके अतिरिक्त जरूरतमंद व्यक्तियों को घर-घर पहुंचकर भी भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है।