बिलासपुर-नगोई स्थित उरैहापारा में स्वर्गीय नारायण प्रसाद गौरहा स्मृति क्रिकेट प्रतियोगिता का पहला चरण खिलाडियों के सम्मान के साथ समापन हुआ। समापन समारोह में जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा समेत स्थानीय जनप्रतिनिधि और गणमान्य लोगों ने शिरकत किया। इस दौरान गौरहा ने खिलाड़ियों को विजेता राशि के साथ सम्मानित भी किया। गौरहा ने अपने भाषण में कहा..यदि आप में प्रतिभा है तो कोई भी ताकत आपको आगे बढ़ने से रोक नहीं सकता है। जब  गंगा हिमालय का सीना चीरकर अपनी यात्रा गंगा सागर तक कर सकती है तो हमारे जिले की प्रतिभाएं भी आसमान की बुलंदियों को छू सकते हैं।  नगोई स्थित उरैहापारा में आयोजित स्वर्गीय नारायण प्रसाद गौरहा क्रिकेट प्रतियोगिता का प्रथम चरण का धूमधाम से समापन हुआ। समापन कार्यक्रम में गणमान्य लोगों समेत जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा ने भी शिरकत किया। मुख्य अतिथि की आसंदी से गौरहा ने खिलाड़ियों का अपना भाषण के माध्य से उत्साहवर्धन किया।  अंकित गौरहा ने इस दौरान विजेता टीम सकरी एलेवन को दस हजार और उप विजेता टीम नगोई को पांच हजार राशि देकर सम्मानित किया। आयोजक मण्डल ने बताया कि स्वर्गीय  नारायण  प्रसाद गौरहा क्रिकेट प्रतियोगिता का आयोजन हर साल चार चरण में किया जाता है। दूसरा चरण का आयोजन 17 जनवरी को वार्ड क्रमांक 49 बी.आर.यादव नगर बहतराई स्थित मैदान में किया जाएगा। 
 अपने संबोधन में जिला पंचायत सभापति ने खिलाड़ियों को जम्कर उत्साहित किया। गौरहा ने कहा कि सभी खिलाड़ियों को स्वामी विवेकानन्द की एक बात को दिल और दिमाग में बैठाकर रखना चाहिए। स्वामी विवेकानन्द ने कहा है कि जब तक लक्ष्य हासिल ना हो मेहनत करते रहें। बिना थके अभियान में लगे रहे। क्योंकि मेहनत करने वालों कभी हार नहीं होती है। अंकित ने कहा बाधाएं बहुत आएंगी। लेकिन हमे लक्ष्य को सामने रखकर आगे बढ़ना है। यह जानकारी होनी चाहिए कि प्रकृति योग्यता का ही चुनाव करती है। जो योग्य होगा वह आसमान की बुलंदियों को जरूर छूएगा। गौरहा ने उदाहरण पेश किया कि गंगा हिमालय जैसी विशाल बाधा की सीना चीरकर मैदानी इलाके में आती है और गंगासागर में अपने लक्ष्य को हासिल करती है। अंकित ने सभी खिलाड़ियों को उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। 
 कार्यक्रम को  संरपंच व जगदीश गुरुद्वान ने भी संबोधित किया। 
इस दौरान बुद्धनाथ पैगौर,जगदीश गुरुद्वान,गुलाब शास्त्री,टिकम सिंह,नवदीप शास्त्री,एम आर लिबर्टी,कपिल डोंगरे ,पप्पू पटेल समेत आयोजन समिति के सदस्य और स्थानीय लोग भी मौजूद थे।