गणेश चतुर्थी का पर्व हर साल मनाया जाने वाला पर्व है. यह पर्व इस साल 22 अगस्त से शुरू हो रहा है. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं गणेश जी को भोग में कभी भी क्या नहीं चढ़ाना चाहिए. जी दरअसल वैसे तो भगवान गणेश को कई चीजों का भोग लगता है लेकिन एक चीज है जिसका भोग गणेश जी को भूल से भी कभी नहीं लगाना चाहिए. आइए बताते हैं. जी दरअसल गणेश जी को भूल से भी तुसली नहीं चढ़ानी चाहिए क्योंकि तुलसी गणेश जी को बिलकुल भी प्रिय नहीं है. इसके पीछे एक वजह है जो एक कथा के माध्यम से हम आपको बताते हैं.

प्रचलित कथा के अनुसार तुलसी गणेश जी से विवाह करना चाहती थी. कहा जाता है तुलसी ने गणेश जी से विवाह करने की प्रार्थना की, लेकिन गणेश जी ने विवाह करने से मना कर दिया. तब गणेश जी के मना करने पर तुलसी को गुस्सा आ गया. उसके बाद क्रोध में तुलसी ने गणेश जी को दो विवाह होने का शाप दे दिया. इसी श्राप के कारण गणेश जी भी नाराज हो गए. उन्होंने क्रोधित होकर तुलसी को शाप देते हुए कहा कि तुम्हारा विवाह एक असुर से होगा.

उस समय असुर से विवाह होने का शाप सुनकर तुलसी का गुस्सा शांत हो गया और वह रोने लगी. उसके बाद उन्होंने गणेश जी से अपने व्यवहार के लिए क्षमा मांगी. तब जाकर गणेश जी ने कहा तुम्हारा विवाह शंखचूर्ण से होगा, लेकिन तुम भगवान विष्णु को प्रिय होने के साथ ही तुम्हारी पूजा भी होगी, लेकिन मेरी पूजा में तुलसी का कोई स्थान नहीं होगा.