रायपुर।  गरीबी उन्मूलन योजना के अन्तर्गत महिला स्व-सहायता समूहों को आत्मनिर्भर बनाने हेतु पशुधन विकास विभाग जिला सुकमा के ग्राम पंचायत केरलापाल में दस स्व-सहायता समूहों को एक-एक माह के 100-100 नग कड़कनाथ चुजे एवं दाना प्रदाय किया गया। इस दौरान समूहों की महिलाओं को मुर्गी पालन के संबंध में प्रशिक्षण भी दिया गया, जिससे उन्हें अपनी आय में वृद्धि के साथ-साथ आर्थिक स्थिति सदृढ़ करने में सहायता मिलेगी। इस दौरान महिलाओं को कड़कनाथ मुर्गी की समस्त जानकारी प्रदान की गई। जिसके माध्यम से व्यवसाय शुरू कर आर्थिक लाभ अर्जित कर सकते हैं।        पशुधन विकास विभाग के उप संचालक डाॅ. एस जहीरूद्दीन ने बताया कि विशिष्ट स्वाद और पौष्टिक तत्वों के कारण कड़कनाथ प्रजाति के मुर्गे-मुर्गियों की अच्छी मांग है और कई प्रकार के रोगियों के लिए यह फायदेमंद है। उपसंचालक डॉ.एस जहीरूदीन द्वारा वितरण के पूर्व समूह की महिलाओं को कड़कनाथ चूजें से संबंधित रख रखाव, बीमारियों में प्रयोग की जाने वाली दवा आदि की जानकारी भी दी गई।