सुकमा जिले के घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र कुन्ना में 15 किमी साइकिल चलाकर स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने वालीं स्वास्थ्य संयोजिका पुष्पा तिग्गा जी हम हमारे बीच नहीं रहीं।

कभी न हारने वाली छत्तीसगढ़ की फ्लोरेंस नाइटिंगेल कैंसर से ये जंग हार गयीं।

कोटि-कोटि नमन एवं सलाम।

2 साल से कैंसर से जूझते हुए भी अपनी स्वास्थ्य सेवाएं जारी रखना उनके सेवाभाव को और एक अजेय योद्धा का प्रतीक है। कुछ दिन पहले मुझे उन्हें सम्मानित करने का सौभाग्य मिला था।

आपकी द्वारा की गई मानवता की यह सेवा अनंतकाल तक छत्तीसगढ़ में गूंजती रहेगी।