इस्तांबुल । इस्लामिक स्टेट के मारे गए नेता अबु बकर अल-बगदादी की बीवी ने गत वर्ष पकड़े जाने के बाद जेहादी समूह के आंतरिक कामकाज के बारे में कई खुलासे किए हैं। तुर्की के एक अधिकारी ने बताया कि बगदादी की बीवी ने अपनी पहचान रानिया महमूद के तौर पर की थी, जबकि उसका वास्तविक नाम असमा फावजी मुहम्मद अल-कुब्यासी है।
महिला को दो जून, 2018 को सीरिया की सीमा के पास हताय प्रांत में गिरफ्तार किया गया था। महिला को 10 अन्य लोगों के साथ गिरफ्तार किया गया था, जिसमें लीला जबीर नाम की बगदादी की बेटी भी शामिल थी। अधिकारी ने बताया कि इराकी अधिकारियों द्वारा दिए गए बगदादी के डीएनए नमूने से उनके पारिवारिक सदस्य होने की पुष्टि की गई। उन्होंने बताया कि 'बगदादी की बीवी की पहचान हो जाने के बाद उसने हमें बगदादी और आईएसआईएस के आंतरिक कामकाज के बारे में बहुत सारी जानकारी दी।  बता दें कि, आईएस नेता अल-बगदादी को तुर्की से लगी सीमा के उत्तर-पश्चिमी सीरिया के इदलिब प्रांत में कुर्द लड़ाकों की मदद से किए गए अमेरिकी विशेष बलों की कार्रवाई में मारा गया। अमेरिका के मुताबिक, बगदादी अपने ठिकाने के सुरंग में भाग गया, जो उसे मौत की मुंह में ले गया। सुरंग के अंदर विस्फोट में बगदादी और उसके दो बच्चों की मौत हो गई।यह कार्रवाई कुर्द आतंकवादियों के खिलाफ तुर्की सैन्य हमले के मद्देनजर हुई, जो आईएस के खिलाफ लड़ाई में पश्चिम देशों का करीबी सहयोगी रहा है, लेकिन अंकारा इसे आतंकवादियों के रूप में देखता है।