मुंबई । बॉलीवुड कलाकार अभिनय के अलावा दूसरी व्यवसायिक गतिविधियों में भी रूचि ले रहे हैं। इनमें नया नाम जुड़ा है आलिया भट्ट का। उनसे पहले दीपिका पादुकोण और कटरीना कैफ गर्ल्स के कपड़ों और मेकअप से जुड़े बिजनेस में हाथ आजमा चुकी हैं। आलिया भट्ट ने फिल्म के साथ-साथ बिजनेस करना शुरू कर दिया है। पहले उन्होंने कुछ स्टार्टअप्स में निवेश किया। इसके बाद वे बच्चों के कपड़ों के बिजनेस में हाथ आजमाने जा रही हैं। उन्होंने बच्चों के कपड़ों की ऐसी रेंज बनाई है, जिसमें प्लास्टिक का कोई यूज नहीं होगा। इस ब्रांड के कपड़ों में पूरी तरह से प्राकृतिक रेशों का प्रयोग किया जाएगा, यहां तक कि इन कपड़ों में बटन आदि भी प्लास्टिक के नहीं लगाए जाएंगे। दावा किया जा रहा है कि ये कपड़े बच्चों को खेल-खेल में नेचर को सेफ करने की ट्रेनिंग भी देंगे। भट्ट ने एड-ए-मम्मा नामक खुद की एक कंपनी शुरू की है, जो कि एक बच्चे के कपड़ों का एक ब्रांड है। यह ब्रांड 2 से 14 के बच्चों को अच्छे कपड़े उपलब्ध कराएगा।
आलिया इस समय फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ के सेट पर शूटिंग करने में बिजी हैं। उन्होंने सेट से ही मनीकंट्रोल को बताया कि, ‘मैं अपनी टीम के साथ एक जेनेरिक फैशन लेबल लॉन्च करने के लिए रिसर्च कर रही थी, क्योंकि मुझे इसमें दिलचस्पी थी। साथ ही हमें एहसास है कि पहले से ही बहुत सारे ब्रांड मौजूद हैं। क्या किसी और को इस आयु वर्ग के लिए एक और ब्रांड की आवश्यकता है?’ आलिया भट्ट ने बच्चों में शुरू से नेचर के लिए प्रेम जगाने और उनमें स्थानीय बाजार में बनने वाले उत्पादों के प्रति लगाव विकसित करने के लिए यह कंपनी खोली है। आलिया ने किसी निवेशक की मदद से यह कंपनी नहीं खोली है, उन्होंने खुद ही इसमें पूरा पैसा लगाया है। इससे पहले वे ‘कोएक्जिस्ट’ नाम का एक कैंपेन शुरू कर चुकी हैं। यह ऑनलाइन प्लेटफॉर्म एनवायरमेंट और एनिमल वेलफेयर के लिए काम करता है। उन्होंने मीसू (मी वार्डरोब सू वार्डरोब) नामक कैंपेन चलाया, जिसके तहत फेमस सेलेब्स अपने कपड़े लोगों को देते हैं।