जिनके पास राशन कार्ड नहीं हैं, उनके लिए भी राशन की व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया है।

राज्य की हर ग्राम पंचायत में जरूरतमंद लोगों के लिए दो क्विंटल चावल रखने का निर्देश दिया गया है।