बिहार के मुजफ्फरपुर में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है जिसे जानकर आप भी सोचने को मजबूर हो जाएंगे.   65 साल की एक बुजुर्ग महिला ने 13 महीने के भीतर आठ बच्चों को जन्म दिया है, सुनकर चौंक गए ना…तो ये मामला है सरकारी राशि को गबन करने का. इतना ही नहीं घोटाले की बानगी देेखिए कि एक अन्‍य महिला को तो एक ही दिन में दो बार बच्‍चे को जन्‍म देते बताया गया है. ये घोटाले का अनोखा मामला है-मुजफ्फरपुर में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में हुए फर्जीवाड़े का. 
इस अजीबोगरीब फर्जीवाड़े में पता चला है कि जिले के मुशहरी प्रखंड के छोटी कोठिया गांव की 65 साल की उम्र पार कर चुकीं शांति देवी के बैंक खाते में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत बच्चे को अस्पताल में जन्म देने पर मिलने वाली 14 सौ रूपये की राशि भेजी जा रही है, जबकि, शांति ने  20 साल में किसी औलाद को जन्म ही नहीं दिया है और उनके खाते में तीन जुलाई से तीन अगस्‍त तक 13 महीने के दौरान छह बार 1400 रुपये की राशि भेजी गई है.
इतनी राशि उनके खाते में आ गई और उन्हें इस बात का पता ही नहीं है. आठ बच्चों को जन्म देने वाली शांति देवी के खाते से राशि क्रेडिट होने के अगले ही दिन निकाल ली गई. जबकि महिला ने किसी बच्चे को जन्म ही नहीं दिया. 
ऐसा ही एक केस लीला देवी नामक महिला के बाऱे में पता चला है जिसके खाते में भी 13 महीने के दौरान आठ बार राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की योजना की 1400 रुपये की राशि भेज कर उसकी निकासी कर ली गई और महिला को इसका पता भी नहीं चला.लीला देवी के बारे में तो और भी लीला है कि कागजात के मुताबिक उन्होंने कभी एक ही दिन दो बार तो कभी कुछ माह के अंतराल पर मुशहरी के प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र में बच्‍चे का जन्‍म दिया है.
लीला देवी ने बताया कि घोटाले की जानकारी मिली तो उन्‍होंने स्‍टेट बैंक के स्‍थानीय सीएसपी संचालक सुशील कुमार को इसकी सूचना दी थी.  स्टेट बैंक मुशहरी के बैंक प्रबंधक चन्द्रजीत कुमार ने कहा कि बार-बार एक ही योजना के पैसे खास बैंक खातों में आने की घटना पर आश्‍चर्य हो रहा है. उन्होंने कहा कि शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जा रही है.